Spread the love

गड़तंत्र दिवस २०२१ कब मनाया जाएगा ?

भारत इस वर्ष अपना 72 वां गणतंत्र दिवस २०२१ मनाने जा रहा है। गणतंत्र दिवस हमारा राष्ट्रीय पर्व है यह हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है।

इस दिन भारत का संविधान लागू हुआ था जिसका निर्माण बाबा साहब भीम राव अंबेडकर ने किया था।

वैसे तो यह पर्व पूरे देश में हर्षोउल्लास से मनाया जाता है लेकिन राजधानी दिल्ली में इसका अलग ही रंग देखे को मिलता है।

Also read about:- 2021 नया वर्ष .

गड़तंत्र दिवस के दिन क्या होता है?

republic day 2021

सरकारी संस्थानों एवं शिक्षण संस्थानों में खास तौर से इस दिन ध्वजारोहण, झंडा वंदन करने के पश्चात राष्ट्रगान जन-गन-मन का गायन किया जाता है और देशभक्ति से जुड़े विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं प्रतिस्पर्धा का आयोजन किया जाता है।

देशाक्ति भाषण, चित्रकला,गीत, एवं अन्य प्रतिस्पर्धाओं के साथ ही देश के वीर पुत्र को याद भी किया जाता है और वंदे मातरम, जय हिन्दी, भारत माता की जय के उद्घोष के साथ पूरा वातावरण देशभक्ति से लबरेज़ हो जाता है।

राजधानी दिल्ली के इंडिया गेट पर भव्य झांकी और सैन्य टुकड़ियों की परेड एक अलग ही समा बांध देती हैं।

Also read about:-Makarsankranti 2021 in Hindi

शैक्षिक संस्था पर गड़तंत्र दिवस २०२१ कैसे मनाया जाता है ?

गांव से लेकर शहरों तक, देश भक्ति के गीतों की गूंज सुनाई देती है और प्रत्येक भारतवासी एक बार फिर अथाह देशभक्ति से भर उठता है। बच्चों में इस दिन को लेकर बोहोत उत्साह होता है।

यह दिन आयोजि कार्यक्रमों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले प्रतिभाशाली विद्यार्थ‍ियों का सम्मान एवं पुरस्कार वितरण भी किया जाता है और मिठाई वितरण भी विशेष रूप से होता है ।

गड़तंत्र दिवस का इतिहास ?

republic day 2021

राजपथ पर होने वाली परेड और झांकी के दौरान हर साल एक विदेशी मेहमान भारत का खास अतिथि होता है। पहले गणतंत्र दिवस पर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णों थे। गणतंत्र दिवस का आयोजन राजपथ पर पहली बार 1955 में किया गया था।

गणतंत्र दिवस भारत के दो अन्य प्रमुख राष्ट्रीय पर्वों स्वंतत्रता दिवस और गांधी जयंती में शामिल है।

यूं तो भारत 15 अगस्त 1947 को आजाद हो गया था लेकिन इसे पूर्ण रूप से आजादी 26 जनवरी 1950 को मिली जब भारत का संविधान लागू किया गया।

अंग्रेजो का शासन ?

लंबे अर्से तक हमारी मातृभूमि भारत पर अंग्रेज शासन का राज रहा है। और हमारे देश के लोगों ने सालों तक गुलामी की है।

जिसके कारण भारत के लोगों को ब्रिटीश शासन द्वारा बनाये गये कानूनों का पालन करना पड़ता था।

संविधान कब लागू किया गया ?

British

किन्तु 15 अगस्त 1947 मै लंबे संघर्ष के बाद भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत को आजादी दिलाई।

26 जनवरी 1950 आजादी के लगभग ढाई साल बाद यानी भारत देश ने अपना संविधान लागू कर दिया। और भारत ने खुद को एक लोकतांत्रिक गणराज्य के रुप में घोषित कर दिया।

संविधान के बारे में और जानकारी ?

constitution

संविधान देश का मौलिक कानून है जो सरकार के विभिन्न अंगों की रूपरेखा और मुख्य कार्य का निर्धारण करता है।

उसी के साथ यह सरकार और देश के नागरिकों के बीच संबंध भी स्थापित करता है।

वर्तमान में, भारत का संविधान 448 अनुच्छेद जो 25 भागों और 12 अनुसूचियों में लिखित है।

हालांकि, संविधान की कई विशेषताएं हैं जैसे धर्मनिरपेक्ष राज्य, संघवाद, संसदीय सरकार इत्यादि ।

बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर का योगदान ?

डॉ. बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर जी ने भारतीय संविधान की रचना हेतु कोई अन्य विशेषज्ञ भारत में नहीं था।

अतः सर्वसम्मति से डॉ. आंबेडकर को संविधान सभा की प्रारूपण समिति का अध्यक्ष चुना गया।

26 नवंबर 1949 को डॉ. आंबेडकर द्वारा रचित (315 अनुच्छेद का) संविधान पारित किया गया।

उनका लक्ष्य था- ‘सामाजिक असमानता दूर करके दलितों के मानवाधिकार की प्रतिष्ठा करना।

आंबेडकर ने गहन-गंभीर आवाज में सावधान किया था, ’26 जनवरी 1950 को हम परस्पर विरोधी जीवन में प्रवेश कर रहे हैं।

हमारे राजनीतिक क्षेत्र में समानता रहेगी किंतु सामाजिक

और आर्थिक क्षेत्र में असमानता रहेगी।

जल्द से जल्द हमें इस परस्पर विरोधता को दूर करना होगी।

वर्ना जो असमानता के शिकार होंगे, वे इस राजनीतिक गणतंत्र के ढांचे को उड़ा देंगे।

गणतंत्र दिवस २०२१ के प्रमुख अतिथि ?

इस बार के गणतंत्र दिवस २०२१ में मेहमान-ए-खुसूसी (Republic Day chief guest)

का सेहरा ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के सिर बंधेगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बोरिस जॉनसन को औपचारिक रूप न्योता भेजा

और उनसे फोन पर बात करके देश के इस जश्न में शरीक होने का आग्रह किया है.